सफरनामा

09 जनवरी, 2009

दुर्गा मिसिर का निधन

आज शाम कोई आठ बजे दुर्गा दादा का निधन हो गया। वही जो मेरी यात्रा की यात्रा के नायक थे और जिसे लिखना छोड़कर मैं अपने आलसीपने के कारण बीच में छोड़ कर लफंडरपन करने लगा था। रात कोई ग्यारह बजे सीपीआई के रा.सचिव अतुल कुमार अनजान ने फोन पर बताया। कोई फोटो तक नहीं है मेरे पास कि यहां लगा सकूं। पता नहीं क्यों लगता था कि वे और मैं हमेशा रहेंगे इसलिए कभी फोटू वगैरा का ख्याल तक नहीं आया। अनजान ने कहा कि उनके निधन की खबर अखबारों में दी जाए लेकिन ऐसे दिन गए कि मुहर्रम पर सारे अखबार बंद हैं। कल दिन में उन्हें चिता में जलता देखने की रस्म बाकी है। अब जब तक गढ़वाल यात्रा पूरी नहीं होगी, हारमोनियम पर कुछ और नहीं लिखा जाएगा। मैं हैरान हूं कि मेरे लिए वे बाप से बढ़कर थे क्योंकि मेरे दोस्त थे तो इस तरह अचानक कैसे बदल गए?

28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत दुःख हुआ सुन कर. यह दुःख भरी खबर मुझे बस अभी अभी मिली है आपके ब्लॉग से. रोक नहीं पाया मैं स्वयं को कमेन्ट करने से. दुर्गा दादा जिस से भी मिलते थे उसके दिल में उतर जाते थे. अब यही लग रहा है कि - "न वो लोग रहे ना वो दिन."

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे? अब आगे? कितना ऊंचा पहाड़?

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे समाचार मर्मान्‍तक पीडादायी होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Durga dada ka jana taklifdeh hai..
    unhe hum aapki yatra se jante the or bina kisi parichay ke hum durga dada ke parichit ho gaye. ekaek unki nidhan ki suchana pakar laga dharti se ek or bhala or jivat aadami kam ho gaya. un par or suchintit dhang se likhiye, ab to apne 'usase' mukata ho jaeye!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कहने की बात नहीं पर दादा आपकी मार्फ़त अपने भी हो गए थे...एकदम धक्का सा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. Nice Blog..keep it up.
    ______________________________
    ''युवा'' ब्लॉग युवाओं से जुड़े मुद्दों पर अभिव्यक्तियों को सार्थक रूप देने के लिए है. यह ब्लॉग सभी के लिए खुला है. यदि आप भी इस ब्लॉग पर अपनी युवा-अभिव्यक्तियों को प्रकाशित करना चाहते हैं, तो amitky86@rediffmail.com पर ई-मेल कर सकते हैं. आपकी अभिव्यक्तियाँ कविता, कहानी, लेख, लघुकथा, वैचारिकी, चित्र इत्यादि किसी भी रूप में हो सकती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दुर्गा दादा के पास चेतना में दो-चार बार मुझे भी बैठने का सुयोग मिला था. ऐसे ही इक बार इक सज्जन दूकान में आये और इक बरसो पुरानी पत्रिका लेना चाह रहे थे. गजब तब हो गया जब उनहोंने दादा से कह दिया की इतनी पुरानी पत्रिका है, हाफ रेट में दीजिये. दादा उसपर बिगड़ पड़े. बाद में उस व्यक्ति ने सफाई दी की उस पत्रिका में उसकी कविता छपी है और उसकी प्रति खो गयी है. दूसरी प्रति के लिए उसके पास ६५ रुपये नहीं हैं. तब दादा ने उसे वह पुरानी पत्रिका मुफ्त में दे दी और उससे कहा पुरानी होने पर पत्रिकाएं और महँगी हो जाती हैं. दुर्गा दादा का जाना सचमुच कचोटता है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Durga mishir ek pratibadh insan the .aise log ab kahan hote hain.
    inpar vistar se likhiye

    उत्तर देंहटाएं
  9. होली की शुभकामनाएं................

    उत्तर देंहटाएं
  10. kya ye blog post band ho gaya hai 9th jan ke baad se ??????

    उत्तर देंहटाएं
  11. कहाँ हैं जी? यात्रा आगे बढेगी ? अब हम सब तो आगे बढ़ने से रहें...

    आपका हारमोनियम उधर लड़ रहा है अडवानी से उन्हीं की ज़मीन पर.....मल्लिका साराभाई का निशाँ बनकर...अब अँधेरे में कुछ तो सही..

    उत्तर देंहटाएं
  12. कहाँ हैं जी? यात्रा आगे बढेगी ? अब हम सब तो आगे बढ़ने से रहें...

    आपका हारमोनियम उधर लड़ रहा है अडवानी से उन्हीं की ज़मीन पर.....मल्लिका साराभाई का निशान बनकर...अब अँधेरे में कुछ तो सही..

    उत्तर देंहटाएं
  13. ANIL BHAI, KAB TAK KHAMOSH RAHEGA HARMONIYAM. KYA VICHARON PAR BHI MANDI KA ASAR HAI? TAAR SAPTAK NA SAHI, MANDR-SAPTAK ME HI BAJAIYE. PAR HUJOOR, BAJAIYE TO SAHI...!

    उत्तर देंहटाएं
  14. दादा जी की आत्मा को मुक्ति मिलेगी - हमारी श्रध्धँजलि स्वीकारीयेगा
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  15. अनिल भाई
    अब लिखो भी। बहुत दिन हो गए। अब तो मम्मा और मन्ना भी परेशान हो गए

    उत्तर देंहटाएं