सफरनामा

25 जुलाई, 2009

हम अपने ख्याल को सनम समझे थे!



अंदाजा न था कि उदय प्रकाश के सम्मान पर बात निकलेगी तो इतनी दूर तलक जाएगी। वो एक अखबार में छपी फोटू और छोटी सी टिप्पणी भर थी, जिसे पत्रकार अनिल यादव ने ब्लाग जगत के सूचनार्थ जारी करते हुए हम सबसे पूछा था-आपको कैसा लगा?

इस टिप्पणी की भाषा भी वैसी मारक नहीं थी जिसके लिए अनिल मशहूर हैं। क्षोभ जरूर था, जो ऐसे किसी भी शख्स में होता, जो उदय को प्रगतिशील मूल्यों का लेखक मानता है। यू.पी.को गुजरात बनाने की धमकी देने वाले प्रसन्नचित्त योगी के हाथों सम्मानपत्र लेते उदयप्रकाश को देखते ही जिनके बदन में पीड़ा की लहर दौड़ी,वे उदय के शुभचिंतक ही थे।

पर इसके बाद जो हो रहा है, वो ज्यादा गंभीर है। उदय ने जिस तरह बताना शुरू किया कि वे जातिवादी-नस्लवादी गिरोहबंदी के शिकार हुए हैं, उससे साफ हो गया कि असल मुद्दे में उनकी कोई रुचि नहीं है। फिर उनकी पैरोकारी में उतरे कुछ लोगों ने गिनती करके ये भी बता दिया कि इस घटना के विरोध में जारी पत्र में नाम देने वाले लेखकों में कितने ब्राह्मण हैं और कितने कायस्थ। ये भी, कि किन-किन लेखकों ने किस अकादमी से पुरस्कार लिया, या किस सरकार का विज्ञापन अपनी पत्रिका में छापा। जैसे लोकसभा में जब विपक्ष सरकार की करतूत का खुलासा करता है तो सरकार बताती है कि विपक्ष के लोगों ने कहां-कहां और कैसे-कैसे कुकर्म किए। हंगामे के बीच वो सवाल दफ्न हो जाता है, जिस पर बात होनी थी।

उदय कह रहे हैं कि वे गोरखपुर के कार्यक्रम योगी की उपस्थिति का राजनीतिक पाठ नहीं कर पाए। लेकिन उदय का ये रूप उनके विचारों में आए जबरदस्त परिवर्तन का नतीजा है। इस बात को वे स्वीकार भी कर चुके हैं। दिक्कत ये है कि उनके चाहने वाले उस उदय को खोज रहे हैं जो प्रगतिशील मूल्यों का पक्षधर होने का दावा करता था। वे नहीं देख पा रहे कि आजकल उदय 'औलिया' की रहमत में दुनिया का मुस्तकबिल देख रहे है, और मानते हैं कि लेखक को विचारों की बाड़बंदी से ऊपर होना चाहिए।

उदय जी को तो याद नहीं होगा, लेकिन मैं नवंबर 2005 (जहां तक याद आ रहा है) में लखनऊ में हुए कथाक्रम सम्मान को भूल नहीं पाऊंगा। वहां सम्मानित होने आए उदय प्रकाश ने अपने भाषण में कहा था कि उनकी ईश्वर में आस्था है। चौंकना लाजिमी था क्योंकि उदय उसी धारा के कवि-लेखक माने जाते थे जो ईश्वर को मुक्ति का नहीं, शोषण का विचार मानती है। संयोग से शाम को ट्रेन पकड़ने के पहले उनके जिस चाहने वाले ने उनकी आवभगत की थी, उसने मुझे भी आमंत्रित किया था। बेचैन मन से मैंने उनसे काफी बहस की थी। खासतौर पर भगत सिंह के 'मैं नास्तिक क्यों हूं' लेख के तर्कों का जवाब मांगा था। उदय कुछ घबराए से थे (ऐसा मुझे लगा) या शायद तब वे नए मुल्ला थे। हालत डांवाडोल थी, बहस में उलझने से बच रहे थे। इस घटना के वक्त कवि पंकज चतुर्वेदी भी मौजूद थे।

यानी, 'विचारों की बाड़बंदी से लेखक को ऊपर उठ जाना चाहिए' का मंत्र फूंकने वाले उदय चार साल पहले ही उस वैचारिक बाड़े में खूंटा गाड़ चुके थे जिसने ज्ञान-विज्ञान के कदम-कदम पर कांटे बोए। मनुष्य द्वारा मनुष्य को गुलाम बनाना हो, राष्ट्र द्वारा राष्ट्र को पराधीनता की बेड़ियों में जकड़ना हो, यहूदियों को गैस चैंबर में भूनना हो, या फिर विश्वयुद्दों में लाखों मनुष्यों का संहार- सबको परमसत्ता की इच्छा का नतीजा बताया। वही परमसत्ता, जिसकी इच्छा के बगैर पत्ता भी नहीं हिलता तो योगी की क्या बिसात थी कि उदयप्रकाश को सम्मानित करता। उसी परमसत्ता की इच्छा के आगे उदय प्रकाश ने सिर झुका दिया।

लेकिन बात इतनी सीधी है नहीं। मैं उन खबरों को पढ़कर चकित था कि जिस लेखक को धरती का धुरी पर घूमते रहना परमसत्ता का खेल लगता है वो दलित आंदोलनकारियों के मंच से सम्मानित हो रहा है। मुझे 'दिमागी गुलामी' लिखने वाले ज्योतिबा फुले और अवतारवाद के षड़यंत्र से मुक्त होने का आह्वान करते डा.अंबेडकर याद आ रहे थे। दलितों को वर्णव्यवस्था की मानवद्रोही चक्की में पीसा जाना भी तो ईश्वर की ही मर्जी थी। तभी तो डा.अंबेडकर ने योगियों के हिंदू धर्म को छोड़कर बौद्ध हो जाना बेहतर समझा जहां दुख को दूर करने का ठेका किसी आसमानी सत्ता को नहीं दिया गया है। फिर उदय एक तरफ दलित आंदोलन के ध्वजावाहक और दूसरी तरफ ईश्वरवादी कैसे हो सकते हैं?

कहीं ऐसा तो नहीं कि उदय जिस बाम्हनपारा की बात करते हैं उसे दलित वही ब्राह्मणवाद समझ बैठे हैं, जिसके खिलाफ डा.अंबेडकर ने अलख जलाई थी, और जिसे किसी भी प्रगतिशील राजनीतिक विचार का पहला निशाना होना चाहिए। ये मैं इसलिए कह रहा हूं कि हिंदी को लेकर कुछ महीने पहले मैं जब उनसे उलझा, (ये बहस उनके ब्लाग में अब भी है) तो उन्होंने उन मुझे उन लेखकों की जाति पता करने की नसीहत दी, जिन्हें मैंने प्रगितवादी बताते हुए उनकी इस स्थापना का विरोध किया था कि हिंदी का पूरा साहित्य प्रतिगामी और सामंती है। वे बताना चाहते थे कि हिंदी में बाह्मनपारा हावी है जिसने उन्हें साजिश करके उन्हें हाशिये पर डाला है। इसके अलावा उन्होंने इकोनामिक टाइम्स में छपे उस लेख में 'अंग्रेजी लाओ-देश बचाओ' का नारा भी दिया था, जिससे मुझे उनके इरादों पर शक हो रहा था। फिर योगी प्रकरण में वे पूरी हिंदी पट्टी को ही वीर विहीन बताने लगे। पूछा कि मार्क्स, गांधी, भगत सिंह, सुभाष क्यों नहीं पैदा हुए। प्रेमचंद, लोहिया, जयप्रकाश, चंद्रशेखर आजाद, अश्फाक उल्ला, शमशेर, त्रिलोचन या तो उन्हें याद नहीं आते या वे याद करना नहीं चाहते।

वैसे उदय के आरोपों के हल्केपन को देखकर उन्हीं के अंदाज में ये सवाल भी उठाया जा रहा है कि कहीं बाह्मनपारा के खिलाफ वे ठाकुरबाड़ी तो नहीं बना रहे हैं। संयोग से योगी भी उन्हीं की जाति के भूषण हैं। और वे भी, जो उदय के इस कृत्य के जवाब में कह रहे हैं कि ‘बचेगा तो साहित्य ही।‘ निश्चय ही हिंदी पट्टी में ब्राह्मणवाद एक बड़ी समस्या है। लेकिन ये उदय प्रकाश के जेएनयू में अध्यापक बन जाने से समाप्त हो जाती, ऐसा तो नहीं। इसके लिए तो सबसे पहले उन ताकतों से लड़ना पड़ेगा जिनके सिर पर योगी आदित्यनाथ जैसों की सदियों से छत्रछाया बनी हुई है। लेकिन उदय तो खुद ऐसे ही छत्र की छाया से आह्लादित हैं। ऐसे में दलितों को भरोसा देने वाली कहानियां, क्राफ्ट के अलावा क्या कही जाएंगी।

जो लोग इस मसले पर पर्दा डालने के लिए याद दिला रहे हैं कि किस-किस लेखक ने किससे कहां-कहां लाभ लिया, उन्हें भी सोचना चाहिए। सही है कि अकादमियां भी पूरी तरह स्वायत्त नहीं होतीं और सम्मान को लेकर राजनीति भी होती है। लेकिन दंगाई के हाथ से सम्मानित होना और साहित्य अकादमी से पुरस्कार लेने को एक बराबर तौलना कुछ-कुछ वैसा ही है जैसे सरकार का विरोध करने वालों से मांग की जाए कि वे सरकार की बनाई सड़क पर नहीं चलेंगे। निश्चय ही ये कोई आदर्श स्थिति नहीं है, लेकिन लेखक सरकारों से नहीं, जनता के हाथों से सम्मानित हों, ऐसी दुनिया योगी जैसे लोगों से लड़कर ही बनेगी, उनसे सम्मानित होकर नहीं।

शमशेर का एक कत: याद आ रहा है...


हम अपने ख्याल को सनम समझे थे,
अपने को ख्याल से भी कम समझे थे,
होना था, समझना न था शमशेर,
होना भी कहां था वह जो हम समझे थे।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतर विश्लेषण...
    कई जरूरी बातें आप कह गए...

    एक और यार रक़ीब की देहरी पर ख़्वाज़ासरा हुआ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. उदयप्रकाश के बहाने लेखन, लेखक और उसके सरोकारों पर अच्छी पडताल की है आपने।
    उदयप्रकाश पर भी कई अनोखी जानकारियां मिली।

    बडा़ मुश्किल होता है, सत्य की राह पर दृढ़ रह पाना।
    पर ये इतने कमजोर लगते तो ना थे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भइया पंकज, रूसी दार्शनिक प्‍लेखानोव ने कहा था कि जिंदा लोग जिंदा सवालों पर सोचते हैं और आज बाजारवाद के नवयुग की धधकती हुई सच्‍चाई यह है कि मांग और पूर्ति का नियम मजदूरों को ज्‍यादा से ज्‍यादा बेबस और लाचार बना रहा है। शहरीकरण की रफ्तार राजमार्ग पर चल रहे ट्रक जैसी है और किसानों की भारी आबादी उजड़-पुजड़कर शहरों की ओर भाग रही है जहां पर पहले से ही रोजगार की स्थितियां बहुत खराब हो चुकी हैं।
    अन्‍न नहीं मिलेगा तो होगी मार और वह भी जमकर-कसकर और बहेगा खून धारा बनकर। सत्‍ता मजदूरों से लड़ने के लिए पहले लंपटों को भेजती है और फिर सेना-पुलिस को।
    बुर्जुआ सत्‍ता आने वाले भयावह कल की तैयारी में जुटी है,क्‍या आपको इसके प्रमाण चाहिए। पर क्‍या हम भी फासीवाद के नये-नये रूपों का सामना करने के लिए तैयार हैं। क्‍या जन-प्रतिरोध के नये-नये रूपों को विकसित करने की कोशिश की जा रही है और क्‍या इतिहास को गति देने वाले मजदूर वर्ग के जीवन के निकट जा रहा है हमारा लेखक।
    लेखक अगर जीवन के नजदीक नहीं होगा तो तरह-तरह का रूपवादी लेखन ही करेगा।
    बुद्ध-अंबेडकर नहीं मार्क्‍स के पास जाओ यारो।
    मजदूर वर्ग का प्रतिरोध कैसे संगठित किया जाये और फासीवाद के आसन्‍न संकट का सामना कैसे किया जाये यह है आज का जिंदा सवाल और हमें इसी पर सोचना है, मौका-प्रकरण-बहाना चाहे जो भी हो हमें इसी सवाल को केंद्र में रखकर बहस करनी चाहिए।
    यह सच है कि हमारा महानगरीय अलगावग्रस्‍त लेखक मजदूरों की जिंदगी से बहुत दूर जा चुका है। इस सच को मान लेने में क्‍यों तकलीफ होनी चाहिए।
    मैं कामता प्रसाद, लखनऊ से

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही अच्छा लेख . जितनी सराहना की जाय , कम है .
    ------पंकज चतुर्वेदी
    कानपुर

    उत्तर देंहटाएं
  5. कामता जी ने बिलकुल सही बात कही है। लेखकों का एक बडा हिस्सा पतन और निराशा की गर्त में जा चुका है। इसके ठोस कारण भी हैं।

    बेहतर हो कि इनके अवदानों का सम्मान करते हुए इनके वर्तमान चेहरे भी पहचाने जायें और अब इनसे कोई उम्मीद पालने की जगह अपने दिल गुर्दे मज़बूत कर इस लडाई की कमान संभाली जाय।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज जी, उदय प्रकाश प्रगतिशील विचारों के कभी भी नहीं थे. उनके पतन के चिन्ह जेनयू के दौर में भी थे लेकिन उनके दोस्त अक्सर उनकी बीमारी को अनदेखा ही करते रहे. और उदय प्रकाश हमेशा ही अपने उत्पीड़न, अपनी उपेक्षा और यंत्रणा का रोना रोते रहे. फिर वो दौर ऐसा था कि खुद को प्रगतिशील कहे बिना काम भी नहीं चलता था. तो यह एक किस्म का अवसरवाद था जिसे वो कहते हैं कि मने इतने बरस कम्युनिस्म को दे दिए. कम्युनिस्म से वो कितना जुड़े थे, उन्होंने ने क्या सार ग्रहण किया था, यह सब हमेशा सामने आता रहा. अब जबकि सेक्युलारिस्म की हार हुई है तो उदय प्रकाश ko यही sab करना ही था. अटल चालीसा to wo पहले hee ga चुके the. जिस `अंत में प्रार्थना ` ka इतना जिक्र किया जाता है, उसका हीरो आखिर किसका गुणगान है?
    एक बात और कि उदय प्रकाश हमेशा एक पोपुलर तड़का अपनी कहानी men जरुर रखते हैं. कई बार to सेक्स का वे ऐसा ही इस्तेमाल करतेहैं और फिर apni पोपुलारिटी par दंभ karte hain. पोपुलर हो जाने के बाद किस विचार की जरुरत rah जाती hai.? yogi jo dila sakte hain, wo vichar kya dila dega?
    इस मसले में अछि बात yh hai ki बहुत से लोगों की पोल खुल गई. बड़े नामचीन लेखक aur पत्रकार अपनी चुप्पी के जरिये उदय प्रकाश बल्कि योगियो और संघ की हिमायत करते नज़र aa gaye. यही यही लोग उदय प्रकाश की करतूत का विरोध कर रहे लेखकों पर कीचड उछलवाने की कोशिश कर रहे थे. ऐसे `प्रगतिशीलों` से भी सावधान रहने की जरुरत है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. Are wah! bahut din bad nikli shamseer-''Hai nahi shamseer apne hath-----kya huaa. Ham kalam se-------katilo ke ser kalam''.bahut achha laga.umeed hai tever aur apna pacha banaye rakhoge. yek mira ki subhkamnaye.

    उत्तर देंहटाएं